1.केंद्र ने 11 मार्च 2024 को नागरिकता संसोधन कानून लागु कर दिया है|

2.CAA कानून लागु होते ही पाकिस्तान,अफगानिस्तान व बांग्लादेश से आये गैर मुस्लिम शर्णार्थियो को भारत की नागरिकता मिलने का रास्ता साफ़ हो गया है|

3.पाकिस्तान,अफगानिस्तान व बांग्लादेश से 31 दिसम्बर 2014 को या उससे पहले भारत आये हिन्दू,जैन,इसाई,सिख,बौद्ध और पारसियों को नागरिकता प्रदान करने का प्रावधान करता है|

4. भारतीय नागरिकता उस अप्रवासी को मिलेगी जो पिछले एक वर्ष और 14 वर्षो में कम से कम पांच वर्षो से भारत में रह रहा हो|

5.नागरिकता कानून में संशोधन का बिल दिसम्बर 2019   में ही संसद के दोनों सदनों लोकसभा व् राज्यसभा से पास हो गया था,इसके नियम नहीं बन पाए इसलिए इसको लागु नहीं कर सके|

6.भारत में आमतौर पे कोई भी नियम बनने में 6 माह का समय लग जाता है,नागरिकता संसोधन कानून में गृह मंत्रालय ने 9 बार समय अवधि मांगी है|

7.CAA  के तहत 6 अल्पसंख्यक यानि हिन्दू,इसाई,सिख,जैन,बौद्ध और पारसी ही भारत की नागरिकता के लिए आवेदन कर सकते है,जो की 31 दिसम्बर 2014 से पहले भारत आ गए|